Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Post Type Selectors
कम एएमएच स्तर

कम एएमएच स्तर: कारण, लक्षण और उपचार

| 01 Jun 2024 | 29268 Views |

एएमएच क्या है?

एएमएच और इसकी प्रजनन क्षमता में भूमिका को समझना

  • एंटी-मुलरियन हार्मोन (Anti-Müllerian Hormone – AMH): अंडाशय (ovaries) के फॉलिकल्स (follicles) द्वारा उत्पादित हार्मोन।
  • प्रजनन क्षमता में भूमिका: अंडाशय रिजर्व (ovarian reserve) का संकेत देता है।

आयु के अनुसार एएमएच स्तर:

  • 20-24 वर्ष: 3.0-5.0 ng/mL
  • 25-29 वर्ष: 2.5-4.5 ng/mL
  • 30-34 वर्ष: 2.0-4.0 ng/mL
  • 35-39 वर्ष: 1.5-3.5 ng/mL
  • 40-44 वर्ष: 0.5-2.5 ng/mL
  • 45+ वर्ष: 0.1-1.0 ng/mL

2. कम एएमएच स्तर के शीर्ष 5 कारण

  • आयु (Age) (35%): एएमएच स्तर को प्रभावित करने वाला मुख्य कारक। आयु के साथ एएमएच स्वाभाविक रूप से कम हो जाता है, विशेष रूप से 35 वर्ष के बाद।
  • जीवनशैली के कारक (Lifestyle Factors) (20%): खराब आहार (poor diet), व्यायाम की कमी (lack of exercise), धूम्रपान (smoking) और शराब का सेवन (alcohol consumption) एएमएच स्तर को कम कर सकता है।
  • पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (Polycystic Ovary Syndrome – PCOS) (15%): अंडाशय के कार्य को प्रभावित करने वाला सामान्य हार्मोनल विकार।
  • एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) (10%): अंडाशय को नुकसान पहुंचाता है, जिससे एएमएच स्तर कम हो जाता है।
  • चिकित्सा उपचार (Medical Treatments) (10%): कीमोथेरेपी (chemotherapy) और पिछली अंडाशय सर्जरी (ovarian surgeries) एएमएच स्तर को काफी कम कर सकती है।

3. कम एएमएच स्तर के शीर्ष 5 लक्षण और संकेत

  • अनियमित मासिक धर्म चक्र (Irregular Menstrual Cycles) (30%): हार्मोनल असंतुलन (hormonal imbalance) का एक सामान्य लक्षण।
  • छोटे मासिक धर्म चक्र (Shorter Menstrual Cycles) (25%): अंडाशय रिजर्व में कमी (diminished ovarian reserve) का संकेत।
  • समय से पहले अंडाशय की उम्र बढ़ना (Premature Ovarian Aging) (20%): प्रारंभिक रजोनिवृत्ति (early menopause) के लक्षण, जैसे हॉट फ्लैश (hot flashes) और रात को पसीना आना (night sweats)।
  • गर्भधारण में कठिनाई (Difficulty Conceiving) (15%): प्रजनन क्षमता में कमी (reduced fertility) और गर्भधारण में अधिक समय।
  • कम एंट्रल फॉलिकल काउंट (Low Antral Follicle Count) (10%): अल्ट्रासाउंड (ultrasound) के दौरान कम फॉलिकल्स दिखाई देना, जो अंडाशय रिजर्व की कमी का संकेत है।

4. कम एएमएच स्तर का निदान

प्रजनन क्षमता परीक्षण और एएमएच स्तर

रक्त परीक्षण (Blood Test): एएमएच मापने का मुख्य तरीका।

पूरक परीक्षण (Complementary Tests):

  • फॉलिकल स्टिमुलेटिंग हार्मोन (Follicle Stimulating Hormone – FSH)
  • एंट्रल फॉलिकल काउंट (Antral Follicle Count – AFC)

5. प्रजनन क्षमता पर कम एएमएच का प्रभाव

कम एएमएच गर्भावस्था के अवसरों को कैसे प्रभावित करता है

  • अंडों की कमी (Reduced Egg Reserve): निषेचन (fertilization) के लिए उपलब्ध अंडों की संख्या कम।
  • प्रजनन उपचार की आवश्यकता (Fertility Treatment Necessity): अक्सर सहायक प्रजनन प्रौद्योगिकियों (assisted reproductive technologies) की आवश्यकता होती है।

6. कम एएमएच स्तर के उपचार विकल्प

कम एएमएच के लिए चिकित्सा हस्तक्षेप (Medical Interventions for Low AMH)

  • प्रजनन दवाएं (Fertility Medications): अंडों के उत्पादन को उत्तेजित करती हैं।
  • आईवीएफ (In Vitro Fertilization – IVF): कम एएमएच वाली महिलाओं के लिए सामान्य दृष्टिकोण।

7. एएमएच स्तर बढ़ाने के प्राकृतिक तरीके

एएमएच बढ़ाने के लिए जीवनशैली में बदलाव (Lifestyle Changes to Boost AMH)

  • स्वस्थ आहार (Healthy Diet): विटामिन और एंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर।
  • नियमित व्यायाम (Regular Exercise): समग्र प्रजनन स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है।

योग, एक्यूपंक्चर, और सप्लीमेंट्स (Yoga, Acupuncture, and Supplements)

  • वैकल्पिक उपचार (Alternative Therapies): योग और एक्यूपंक्चर प्रजनन क्षमता का समर्थन कर सकते हैं।
  • सप्लीमेंट्स: डीएचईए (DHEA), विटामिन डी (Vitamin D), और एल-आर्जिनिन (L-arginine)।

8. कम एएमएच स्तर के लिए आईवीएफ उपचार

कम एएमएच के साथ आईवीएफ कैसे काम करता है (How IVF Works with Low AMH)

  • अंडाशय उत्तेजना (Ovarian Stimulation): कई अंडों का उत्पादन करने के लिए दवाएं।
  • अंडा पुनः प्राप्ति और निषेचन (Egg Retrieval and Fertilization): अंडों को लैब में निषेचित किया जाता है।

कम एएमएच के साथ आईवीएफ की सफलता दर (Success Rates of IVF with Low AMH)

सफलता को प्रभावित करने वाले कारक (Factors Influencing Success): आयु, अंडे की गुणवत्ता, और गर्भाशय स्वास्थ्य।

9. डोनर एग्स और आईवीएफ

आईवीएफ में डोनर अंडों का उपयोग (Using Donor Eggs in IVF)

  • कब विचार करें (When to Consider): अत्यधिक कम एएमएच या खराब गुणवत्ता वाले अंडे।
  • सफलता दर (Success Rates): डोनर अंडों के साथ उच्च सफलता दर।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

हां, हालांकि सहायक प्रजनन प्रौद्योगिकियों की आवश्यकता हो सकती है।

अंडाशय रिजर्व में कमी का संकेत और प्रारंभिक रजोनिवृत्ति का संकेत हो सकता है।

About The Author
Dr. Richika Sahay

MBBS (Gold Medalist), DNB (Obst & Gyne), MNAMS, MRCOG (London-UK), Fellow IVF, Fellow MAS, Infertility (IVF) Specialist & Gynae Laparoscopic surgeon,[Ex AIIMS & Sir Gangaram Hospital, New Delhi]. Read more

We are one of the Best IVF Clinic in India!

At India IVF Clinics we provide the most comprehensive range of services to cover all the requirements at a Fertility clinic including in-house lab, consultations & treatments.

    As per ICMR and PCPNDT Guidelines No Pre Natal Sex Determination is done at India IVF Clinic    As per ICMR and PCPNDT Guidelines Genetic Counselling can only be done in person

    Call Us Now

      Shop
      Search
      Account
      Cart