Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Post Type Selectors
प्रेगनेंसी में थायरॉयड कितना बड़ा बाधक The Complex Connection Between Thyroid and Pregnancy (Hindi)

प्रेगनेंसी में थायरॉयड कितना बड़ा बाधक? The Complex Connection Between Thyroid and Pregnancy (Hindi)

| 28 Jul 2023 | 2370 Views |

भूमिका

नमस्ते! आपका स्वागत है India IVF Fertility Clinic के ब्लॉग पर, जहां हम आपको प्रजनन स्वास्थ्य के विभिन्न पहलुओं के बारे में ज्ञान देते हैं। आज का विषय है – “प्रेगनेंसी में थायरॉयड कितना बड़ा बाधक?” थायरॉयड और गर्भावस्था के बीच जटिल सम्बंध को समझने का हमारा प्रयास है। हमारा उद्देश्य आपको सही जानकारी देना है जो आपकी यात्रा को सरल बना सके। चलिए शुरू करते हैं।

गर्भावस्था और थायरॉयड: एक जटिल सम्बंध

नमस्ते! आपका स्वागत है India IVF Fertility Clinic के ब्लॉग पर, जहां हम आपको प्रजनन स्वास्थ्य के विभिन्न पहलुओं के बारे में ज्ञान देते हैं। आज का विषय है – “प्रेगनेंसी में थायरॉयड कितना बड़ा बाधक?” थायरॉयड और गर्भावस्था के बीच जटिल सम्बंध को समझने का हमारा प्रयास है। हमारा उद्देश्य आपको सही जानकारी देना है जो आपकी यात्रा को सरल बना सके। चलिए शुरू करते हैं।

गर्भावस्था और थायरॉयड: एक जटिल सम्बंध

थायरॉयड हार्मोनों का निर्माण करने वाली एक ग्रंथि है जो आपके गले के निचले हिस्से में स्थित होती है। ये हार्मोन आपके शरीर के विभिन्न कार्यों को नियंत्रित करते हैं, जैसे कि मेटाबॉलिज़्म, तापमान, और हृदय गति। जब आप गर्भवती होती हैं, तो थायरॉयड हार्मोन की आवश्यकता बढ़ जाती है। इसलिए, यदि आपके शरीर में थायरॉयड हार्मोन की कमी होती है, तो यह आपके और आपके बच्चे के लिए समस्याएं पैदा कर सकता है।

थायरॉयड हार्मोन शरीर की कई महत्वपूर्ण प्रक्रियाओं के लिए आवश्यक होता है, जैसे कि ऊर्जा प्रबंधन, गर्माहट उत्पादन, और भारी अंगों और तंत्रिका तंत्र के सामर्थ्य को नियंत्रित करना। यदि आपके शरीर में इस हार्मोन की कमी होती है, तो इसका प्रभाव आपके शरीर के विभिन्न हिस्सों पर पड़ता है।

गर्भावस्था के दौरान, थायरॉयड हार्मोन की कमी आपके और आपके गर्भस्थ शिशु के लिए समस्याएं उत्पन्न कर सकती है। महिलाओं में, यह थकान, असामान्य वजन वृद्धि, कब्ज, ठंड महसूस करना, और अनिच्छा जैसे लक्षण उत्पन्न कर सकता है। अगर इसे उपेक्षा की जाती है, तो यह प्रेमेच्युर डिलीवरी, प्रीएक्लाम्सिया (एक गंभीर रक्तचाप स्थिति), और गर्भपात की संभावना को बढ़ा सकता है।

गर्भस्थ शिशु के लिए, थायरॉयड हार्मोन उनके मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इस हार्मोन की कमी शिशु के विकास में विलंब का कारण बन सकती है और इसे अविकसित मस्तिष्क और कम बुद्धिमत्ता (जिसे क्रेटिनिज्म कहा जाता है) की स्थिति के लिए जिम्मेदार माना जा सकता है।

यदि आपको लगता है कि आपके पास इनमें से कोई भी लक्षण हैं, तो अपने हेल्थकेयर प्रदाता से संपर्क करने का समय हो सकता है। वे आपके लक्षणों का मूल्यांकन करेंगे और यदि आवश्यक हो, तो वे आपके लिए एक उपचार योजना तैयार कर सकते हैं।

गर्भावस्था में थायरॉयड की समस्याएं

गर्भावस्था के दौरान, थायरॉयड की अनियमितताएं दो प्रमुख रूपों में आ सकती हैं:

  • हाइपरथायरोइडिज्म (Hyperthyroidism): जब थायरॉयड अधिक हार्मोन उत्पन्न करता है।
  • हाइपोथायरोइडिज्म (Hypothyroidism): जब थायरॉयड पर्याप्त हार्मोन नहीं उत्पन्न करता है।

संपूर्णता (Conclusion)

इस प्रकार, गर्भावस्था में थायरॉयड एक बड़ा बाधक हो सकता है, लेकिन यदि इसकी पहचान समय पर की जाए और उचित उपचार किया जाए, तो महिलाएं स्वस्थ गर्भावस्था का अनुभव कर सकती हैं। हमें आशा है कि यह लेख आपको गर्भावस्था में थायरॉयड के बारे में जागरूकता बढ़ाने में मदद करेगा और आपके प्रश्नों का उत्तर देने में सहायता करेगा।

सन्दर्भ (References):

FAQs

हां, थायरॉयड गर्भावस्था को प्रभावित कर सकता है। गर्भावस्था के दौरान, थायरॉयड हार्मोन की आवश्यकता बढ़ जाती है।

गर्भावस्था में थायरॉयड के लक्षणों में थकावट, बालों का झड़ना, अत्यधिक ठंड लगना, धीमी हृदय गति, सूजन और कब्ज़ शामिल हो सकते हैं।

गर्भावस्था में थायरॉयड का उपचार आपके वैद्यकीय परामर्शदाता द्वारा निर्धारित किया जाता है, जो सामान्यतः थायरॉयड हार्मोन की कमी को पूरा करने के लिए हार्मोन थेरेपी शामिल होता है।

हां, यदि आप गर्भवती हैं या गर्भवती होने का विचार कर रही हैं, तो आपको अवश्य थायरॉयड की जांच करानी चाहिए, खासकर यदि आपके परिवार में थायरॉयड का इतिहास हो।

हां, थायरॉयड वाली महिलाएं स्वस्थ बच्चे को जन्म दे सकती हैं। यदि थायरॉयड की समस्या का समय पर पता चल जाता है और उचित उपचार किया जाता है, तो महिलाएं स्वस्थ गर्भावस्था का अनुभव कर सकती हैं।

हां, अनियमित थायरॉयड हार्मोन के स्तर आपके IVF के परिणामों को प्रभावित कर सकते हैं। इसलिए, यदि आप IVF की योजना बना रही हैं, तो आपको अपने थायरॉयड हार्मोन के स्तर की जांच करानी चाहिए।

यह मामला व्यक्तिगत रूप से भिन्न हो सकता है। कुछ महिलाओं में, थायरॉयड की समस्या गर्भावस्था के बाद सुधर सकती है, जबकि दूसरों में यह समस्या जीवन भर रह सकती है।

हां, थायरॉयड वाली महिलाएं अपने बच्चे को दूध पिला सकती हैं। यदि आप थायरॉयड की दवाएँ ले रही हैं, तो आपको अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

लीवोथायरॉक्सीन (LT4) सबसे अधिक उपयोग की जाने वाली दवा है जो गर्भावस्था के दौरान थायरॉयड के लिए सुरक्षित मानी जाती है।

गर्भावस्था में थायरॉयड को नियंत्रित करने के लिए उचित आहार, नियमित व्यायाम, और नियमित रूप से डॉक्टर के परामर्श के साथ दवाएँ लेने की आवश्यकता होती है।

About The Author
India IVF Clinic

Best IVF Centre At India IVF Fertility, located in Delhi, Noida, Gurgaon, Gwalior, Srinagar to get best infertility treatment with high success rates.

We are one of the Best IVF Clinic in India!

At India IVF Clinics we provide the most comprehensive range of services to cover all the requirements at a Fertility clinic including in-house lab, consultations & treatments.

    As per ICMR and PCPNDT Guidelines No Pre Natal Sex Determination is done at India IVF Clinic    As per ICMR and PCPNDT Guidelines Genetic Counselling can only be done in person

    Call Us Now

      Shop
      Search
      Account
      Cart